विवादित ज़मीन पर ज़बरन कब्ज़ा चाहते हैं विपक्षी – ओम प्रकाश मिश्रा

शाहाबाद में एक विवादित ज़मीन पर हुए प्रकरण में जहाँ एक तरफ दो पक्षों के आरोप-प्रत्यारोप के अतिरिक्त राजनितिक सरगर्मियां चरम पर हैं। बीती शुक्रवार ज़मीन के क्रेता ओम प्रकाश मिश्रा ने मीडिया के सामने अपनी बात रखी। उन्होंने बताया कि 2005 में उन्हीने एक ज़मीन को गिगियानी निवासी हनुमंत से खरीदा था ,ज़मीन का सारा पैसा उन्होंने बैंक ऑफ़ इंडिया के माध्यम से हनुमंत के खाते में जमा कर दिया था। उसके बाद उनके पुत्र बाबुराम ने फ़र्ज़ी मुक़दमा अपहरण का लिखा ,जिसमे उस समय हनुमंत ने बयान दिया था की वह अपनी लड़की के यहाँ रह रहें हैं। इसी बीच ज़मीन का दाखिल खारिज भी हो गया। ज़मीन पर कब्ज़ा भी उनका ही था। ओम प्रकाश मिश्रा बताते है कि सपा सरकार के दौरान फसल वो बूते थे लेकिन काट हनुमंत के परिवारजन लेते थे। सपा सरकार में हनुमंत के परिजनों ने ज़मीन पर दबंगई से कब्ज़ा भी क्र लिया। प्रदेश की योगी सरकार के कब्जामुक्त आदेश पर उन्हें ज़मीन को कब्जामुक्त होने की उम्मीद दिख रही एवं उन्होंने ज़मीन को नृपेंद्र मिश्रा ,देवेश शुक्ला व् अमित शुक्ला को बेंच दी ,जिसमे वह प्लॉटिंग कर रहे हैं,जबकि विपक्षी फ़र्ज़ी तरह से ज़मीन को हथियाना चाहते है।ओम प्रकाश मिश्रा कहते है विपक्ष के पास कोई साक्ष्य नही हैं,यदि हों तो वह सक्षम अधिकारी के सामने पेश करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.